Saturday, August 2, 2014

भगवान शिव को प्रिय है सावन



हिन्दू पंचांग के बारह मासों में श्रावण (सावन) मास भगवान शिव को सर्वाधिक प्रिय है | इस माह को वर्षा ऋतु भी कहते हैं | भगवान शिव को चंद्रमा बहुत प्रिय हैं इसी लिए उन्होंने चंद्रमा को अपने मस्तक पर धारण किया है जिसके कारण वह चन्द्रशेखर कहलाये | चन्द्रमा जल तत्व का ग्रह है इसी लिए इस माह में जल की अधिकता होती है |
सावन मास भगवान शिव को विशेष प्रिय है | इस लिए इस मास में शिव की पूजा अर्चना का विशेष महत्व और विधान है जिसे शिव भक्त बड़ी श्रद्धा से करते हैं तब आशुतोष शिवशंकर प्रशन्न हो कर मनोवांछित फल देते है |
सावन भगवान शिव को इतना प्रिय क्यों है ? इसके बारे में एक पौराणिक कथा में कहा गया है कि सती के देहत्याग करने के पश्चात जब आदिशक्ति ने अपने दूसरे जन्म में पार्वती के रूप में पर्वतराज हिमालय के घर में जन्म लिया तब उन्होंने अपने युवावस्था में इसी माह में निराहार रहकर कठोर तपस्या कर के भगवान शिव को प्रशन्न किया और उन्हें पति रूप में पाने का वरदान प्राप्त किया | सावन माह शिव और पार्वती के मिलन का माह है कहते हैं तभी से सावन मास शिव को अत्यधिक प्रिय हो गया | इसके अलावा भी और कई कारण है |
कहते हैं कि भगवान शिव इस मास पृथ्वी पर अपनी ससुराल आये थे तब उनका स्वागत आर्घ्य और जलाभिषेक से किया गया था इसी लिए ये महीना शिव को प्रिय है और पृथ्वीवासियों को उनकी कृपा पाने का मास भी है |
एक और कथा के अनुसार जब समुद्रमंथन से विष निकला था तब सम्पूर्ण श्रृष्टि की रक्षा हेतु भगवान शिव ने वो विष अपने कंठ में धारण कर लिया था उस विष के प्रभाव से उन्हें मूर्च्छा आ गई तब ब्रह्मा जी के कहने पर सभी देवताओं ने उन पर जलाभिषेक किया | कहते हैं तभी से भगवान शिव का जलाभिषेक होने लगा | यह अद्भुत घटना भी सावन मास में घटित हुआ इस लिए भी सावन मास शिव को प्रिय है | सर्प आशुतोष शिव के प्रिय आभूषण हैं अत: नागपंचमी का पर्व भी इसी महीने में मनाया जाता है |
सावन मास के प्रधान देवता भगवान शिव हैं | यही कारण है कि इस महीने शिव की पूजा का कई गुना फल प्राप्त होता है | इन्ही सब कारणों से माना जाता है कि भगवान शिव को सावन मास सबसे प्रिय है |
इस महीने कथा,प्रवचन,सत्संग सुनने का विशेष महत्व है |
 सावन में सोमवार व्रत अत्यधिक फल देने वाला होता है | शिवशंकर बहुत भोले हैं और जल उन्हें बहुत प्रिय है वो मात्र जलाभिषेक से ही प्रशन्न हो जाते हैं | प्रेम पूर्वक शिवपार्वती की पूजा आरती से आत्मिक सुख की प्राप्ति होती है |

`
ऊं नमः शिवाय

मीना पाठक