Showing posts with label लेख. Show all posts
Showing posts with label लेख. Show all posts

Saturday, November 2, 2013

इस दीपावली एक संकल्प लें

समाज की अति व्यस्तता में मगन हम आनंद का अनुभव करने के लिए विशेष अवसरों की खोज करतें हैं | त्यौहार उन विशेष अवसरों में से एक है | ये हमारे जीवन में नयापन लाते हैं, आनन्द और उल्लास पैदा करते हैं | हमारे त्योहारों में दीपावली का विशेष स्थान है | दीपावली का साधारण अर्थ दीपों की पंक्ति का उत्सव है और दीपक का प्रकाश ज्ञान और उल्लास का प्रतीक है |
दीपावली कब और क्यों मनाया जाता है ये तो हम सभी जानते हैं | इसके बारे में अनेक सांस्कृतिक,ऐतिहासिक एवं धार्मिक परम्पराएं और कितनी कहानियां प्रचलित हैं ये भी हम सब जानते हैं | इस दीपावली पर मै किसी और तरफ़ आप सभी का ध्यान आकर्षित करना चाहती हूँ |
दीपावली खुशियों का त्यौहार, दीपों का त्यौहार और सबसे बढ़ कर लक्ष्मी के स्वागत का त्यौहार है | घर-घर में साफ़ सफाई हो रही है | घर का हर कोना साफ़ किया जा रहा है, दीवारों को चमकाया जा रहा है लक्ष्मी के स्वागत के लिए | पर क्या अपना मन भी इसी तरह साफ़ किया जा रहा है या साफ़ किया जा सकता है ? अगर ऐसा हो जाए तो लक्ष्मी सदैव के लिए ही घर में रुक जायें | घर की सफाई से ज्यादा जरूरी अपने हृदय रुपी घर की सफाई है जिसकी दीवारें घर की लक्ष्मी के लिए मान,सम्मान और प्रेम की भावना से रंगी हों और उसकी मुस्कुराती हुई तस्वीर हर दीवार पर टंगी हो ऐसे घर में तो लक्ष्मी के साथ नारायण भी वास करना चाहेंगें और जहाँ नारायण का वास हो वहाँ से लक्ष्मी भला कहाँ जा सकती हैं | इसके विपरीत जिस घर में गृहलक्ष्मी आँसू पोछती रहती है, घुटती रहती है उस घर को लाख साफ़ करो पर लक्ष्मी वहाँ से दूर ही रहती हैं | लक्ष्मी मिट्टी की मूर्ती में वास नही करतीं वो वास करती है जीती जागती गृहलक्ष्मी में जिसका एक बार स्वागत कर कर के आप सैकड़ों बार उसकी आत्मा के साथ बलात्कार करते हो | जिस घर में स्त्री का सम्मान नही होता वहाँ दलिद्रता का वास होता है | नाना विधि से मूर्ती के सामने फल,फूल और मिठाइयाँ अर्पित करने से लक्ष्मी प्रशन्न
नहीं होतीं हैं | अपना अंतर्मन निर्मल हो और उसमे स्त्री के प्रति सम्मान की भावना हो तो माँ लक्ष्मी सहित सभी देव प्रशन्न होते हैं | इस दीपावली लक्ष्मी पूजन के समय शपथ लें की अपनी गृहलक्ष्मी को सम्मान देंगे, और सभी स्त्रियों के प्रति सादर भाव रखेंगे. कन्या भ्रूणहत्या नही होने देंगे  तभी आप की, हमारी और सभी की दीपावली मंगलमय होगी | जहाँ स्त्री का सम्मान होता है वहीं लक्ष्मी का वास होता है | इसी लिए कहा गया है कि -- 

                   यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते,रमन्ते तत्र देवता: ||

आप सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ
सादर

Thursday, July 18, 2013

जल














जल

इस संसार में समस्त जीवों, पशुओं और पौधे सब को पानी की आवश्यकता है | प्राचीन काल में लोगों ने बस्तियाँ कस्बा, नगर, गाँव, नदियों के किनारे ही बसाये थे ताकि वो जो फसल या पेड़ पौधे लगाएं उसको नदियों से पर्याप्त जल मिलता रहे | पर उन्होंने नदियों की ज़मीन नहीं हथियाई, प्रकृति के साथ छेड़छाड़ नही किया |

जल ही जीवन है | पर जब यही जल प्रलय बन के टूट पड़े तो न जाने कितने जीवन लील लेता है | जब ये जल का जलजला आता है तब अपने साथ तबाही और बर्बादी ले कर आता है चारों तरफ़ चीख पुकार ..इधर-उधर भागते हुए लोग और अपनों को अपने सामने ही जल समाधि लेते हुए देख कर भी कुछ ना कर पाने को विवश लोग और जब जाता है तब अपने पीछे छोड़ जाता है लाशों के ढेर, उजड़ी हुई बस्तीयां, नगर और गाँव, रोते बिलखते लोग | बसे बसाये नगर शमशान में तब्दील हों जाते है |
किसी भी चीज की अधिकता विनाशकारी है नदिया जब तक अपनी मर्यादा में बहें तभी तक जल जीवन है पर नदी में जल का उफान आते ही वो अपने किनारों को छोड़ बाहर आ जाती है और तभी आता है जल प्रलय |
अखिर इसका जिम्मेदार कौन है | हमारी एक इंच ज़मीन कोई ले ले तो हम उसे पाने के लिए ना जाने क्या क्या करते हैं पर हमने इन नदियों की कितनी ज़मीन हड़प ली फिर भी ये सब कुछ सहती हुई शांत बहती रही और हमें जीवन देती रही पर आखिर कब तक वो भी कब तक सहती हमने तो अति ही कर दी | उसके सीने पर होटल, मकान से ले कर दूकान तक बना डाले और उसी की ज़मीन पर जम कर पैसे बनने लगे | हम तो अपनी जेबे भरते रहे पर उसके दिल में कितने छेद हुए ये नही देख पाए और जब वो दर्द नहीं सह पायी तब उसने तोड़ दी सारी मर्यादा और गुस्से से उफनाती हुई पूरे हक से अपनी ज़मीन वापस ले ली | उसने तो अपना हक ही लिया जो हमने उससे छीना था | असली दोषी कौन है हम या वो नदी जिसे सिकुड़ने पर हमने मजबूर कर दिया था | आज उसने फैलाव लिया तो सब छिन्न - भिन्न, चीख पुकार, हाहाकार और विनाश के सिवा कुछ भी हाथ नही लगा |
नदियाँ अपनी मर्यादा में रहें इसके लिए हमे खुद मर्यादा में रहना होगा | उनकी ज़मीन पर अवैध निर्माण, ना जाने कितने जल बिद्दुत परियोजनाएं. बाँध और गंदे नालों का पानी उसमे निरने से रोकना होगा | वृक्ष लगाने होंगे जो विकाश के नाम पर कटते जा रहे हैं | अगर हम अपनी सीमाएं नहीं तोड़ेंगे तो नदियां भी अपनी सीमा में ही बहेंगी | प्रकृति हमें देती है हम से कुछ लेती नही, हम ही प्रकृति के साथ खिलवाड़ करते हैं और उसका खामियाजा खुद ही भुगतते हैं और सारा दोष प्रकृति के सिर मढ़ देते हैं | अलखनंदा व मंदाकिनी ने अपना रौद्र रूप दिखा कर हमें सचेत किया है, हम अब भी ना चेते तो भगवान ही मालिक है |

||मीना पाठक||

चित्र - गूगल  

Monday, June 17, 2013

अपने पापा के नाम एक पत्र







                                              एक पत्र अपने पापा के नाम  


आदरणीय पापा जी

                          सादर चरणस्पर्श



मैं यहाँ पर कुशल पूर्वक रहती हुई ईश्वर से प्रार्थना करती हूँ कि आप जहाँ कहीं भी हों सकुशल हों |
पापा आप कैसे हैं ? इतने दिनों से आप की कोई खबर नही | आप की बहुत याद आती है पापा. आप हमें छोड़ कर क्यों चले गये ? आपने एक बार भी नही सोचा की माँ आप के बिना अकेले कैसे रहेगी, हमसब भाई-बहनों को वो अकेले कैसे पालेगी, एक बार तो सोचा होता आप ने पापा | मैं ही कुछ बड़ी थी बाकी दोनों बहने छोटी थी और भाई तो मात्र ग्यारह महीने का था, जब आप हमें छोड़ गये थे |
पापा अब देखिये ना आ कर कि हम सब बड़े हों गये हैं और समझदार भी | बस् एक बार आप आ जाइये पापा, मेरी बहुत तमन्ना है कि एक बार फिर से आप मुझे अपने सीने से लगा कर मेरे सिर पर अपना स्नेह भरा हाथ रख दें | बहुत याद आती है आप की पापा, कोई भी दिन आप की याद के बिना नही गुजरता है | अकेले छुप-छुप कर रोती हूँ, अगर बच्चों ने देख लिया तो मुंह घूमा के आँसू पोंछ लेती हूँ |
पापा .. मुझे आप की सब बाते याद हैं, जब माँ ने आप से एक अच्छी साड़ी की फरमाइश  की थी तब आप ने कितने प्यार से माँ को समझा दिया था कि
तुम जैसी भी साड़ी पहन लो बहुत अच्छी लगती हों और माँ मुस्कुरा के रह गई थी | वो बात भी याद है मुझे जब चाचा के असमय सफ़ेद हुए बालों को कलर लगा के काला किया था आप ने और फिर उनके बालों को धो कर एक-एक बाल हटा-हटा कर आप देख रहे थे कि कहीं कोई बाल सफ़ेद तो नही रह गया | इंटरव्यू में ओवर एज कह के निकाल ना दिया जाए चाचा ये डर था आप के मन में इसी लिए आप ने ये सब किया था और आप के प्रयास से चाचा को सरकारी नौकरी मिल गयी थी | अब तो वो भी रिटायर होने वाले है | मुझे सब याद है पापा आप को ही मेरी याद नहीं आती तभी तो आप मेरी सुध नहीं लेते कभी |
पापा जब आप थे तब हमारे पास बहुत सी सुविधाएँ नही थीं पर आप का हाथ था हमारे सिर पर तो किसी भी चीज की कमी महसूस नहीं होती थी, आज हमारे पास सब कुछ हैं पर आप नही हैं तो कुछ भी नही है पापा कुछ भी नही ......
पहले तो आप मेरे सपने में आ जाते थे पर अब तो आप सपने में भी नहीं आते पापा | रोज सोच के सोती हूँ कि आज रात को सपने में जरूर मिलूँगी आप से पर सुबह उठ के निराश हो जाती हूँ, थोड़ी देर उदास हो कर बैठी रहती हूँ फिर अपने काम में लग जाती हूँ | आप तो मुझे बहुत प्यार करते थे पापा, फिर मुझे अकेली क्यूँ छोड़ गये आप ?
जब भी दुखी होती हूँ आप को याद कर के रोती हूँ कि अगर आप होते तो मैं अपने आप को यूँ अकेला और  कमजोर न महसूस करती | सारी दुनिया दुःख में भगवान को याद करती है पर मुझे आप याद आतें हैं पापा, जार-जार रोती हूँ आप को याद कर के | अब तो थक चुकी हूँ रो-रो कर, आप नहीं आएंगे मुझे पता है, अब तो एक ही रास्ता है आप से मिलने का ............................
                                               मुझे ही आना होगा आप के पास | वहीं आ कर आप से लिपट कर जी भर के रोऊँगी और अपने दिल की सारी बातें आप से कहूँगी जो अब तक किसी से नहीं कह पाई | कोई मुझे नहीं समझता पर आप मुझे अच्छी तरह समझते हैं पापा, मेरे दिल की हर बात समझते हैं आप, मुझे पता है | आप से मिल कर मुझे शान्ती मिलेगी और सभी दुखों से छुटकारा भी ........................
मैं ही आऊँगी पापा ..... मैं ही आऊँगी आप के पास .... मेरा इन्तजार कीजियेगा पापा .......

                                                 आप की लाडली
                                                   मीना

 

Wednesday, January 16, 2013

पत्थर दिल

सुनों देव 

तुम पत्थर हो पत्थर | समझ रहें हो ना मैं क्या बोल रही हूँ | तभी तो तुम तक मेरी कोमल भावनाएं नहीं पहुँच पाईं आज तक | तुम्हे पूज-पूज के भगवान तो मैंने ही बनाया फिर भी तुम पत्थर के पत्थर ही रहे | सुना था कि तुम भोले हो थोड़े से प्रेम से ही प्रशन्न हो जाते हो पर मुझे तो वर्षों बीत गये तुम्हारी आराधना करते करते पर तुम वही के वही |

कभी - कभी तो लगता है कि मेरी पूजा सफल होने वाली है पर अगले ही पल तुम्हारी भृगुटी तन जाती है | तुम पत्थर हो और पत्थर ही रहोगे जीवन भर | इतने वर्षों में तुम्हारा हृदय परिवर्तन नहीं हुआ तो अब क्या होगा | अब तो मेरी भी उम्मीद जवाब दे रही है | शायद मेरी पूजा - अर्चना में ही कोई कमी रह गई जो तुम आज तक नही पिघले |

पर मेरी उन भावनाओं का क्या जो तुम तक आज तक नही पहुँची  पाईं | पर अब मैं भी कोशिश नही करुँगी कि तुम मेरी भावनाओं को समझो | वो मेरी हैं और मैं अपने पास ही सम्भाल के रक्खुंगी | क्यों कि पत्थर पर सिर पटक - पटक के मैंने अपना माथा और आत्मा दोनों लहुलूहान कर रखा है \

मैं इस दर्द के साथ अकेले ही जी लूँगी | तुम बैठे रहो अकेले पत्थर बन के | प्रणाम करती हूँ तुम्हे दूर से ही |

मीना पाठक 

Tuesday, January 1, 2013

संकल्प - मीना पाठक

मीना पाठक
_____________

कड़े नियम कानून की मांग के साथ-साथ हम सब को अपने अन्दर भी झांकना होगा | हम अपनी जिम्मेदारियों से मुंह नही मोड़ सकते | हम सभी को आत्ममन्थन करना होगा कि माँ- -बाप और शिक्षक होने के नाते हम बच्चों को क्या सिखा रहें हैं और अपने आप से एक वादा करना होगा हम सभी को कि आगे से हम ऐसा नही होने देंगें | इसी वादे के साथ नए वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ आप सभी को ..

Sunday, December 30, 2012

अंतर्मन

नमस्कार

कुछ अपने अंतर की

कुछ दुनिया के अंतर की

अंतर करना

अंतर्मन में