Sunday, August 10, 2014

पापा बिन !!

नित बैठी रहती हूँ उदास
हर पल आती पापा की याद
सावन में सखियाँ जब
ले कर बायना आती हैं
नैहर की चीजें दिखा-दिखा
इतराती हैं,
 तब भर आता है दिल मेरा
पापा की कमी रुलाती है ।
कहती हैं जब, वो सब सखियाँ
पापा की भर आयीं अंखिया ।
मेरे बालों को सहलाया था
माथा चूम दुलराया था ।
सुनती हूँ जब उनकी बतिया
व्यकुल हो गयी मेरी निदिया ।
मन अधीर हो जाता है
पापा को बहुत बुलाता है
पर खुश देख सखी को
हल्का करतीं हूँ मन को
सज जाती है होठो पर
यादों की पीर
नैनो  से आज फिर छलक आयी
बहती सी नीर
जीवन का रंग कितना
बदल जाता है ।
पापा बिन सावन का
इक तीज-त्यौहार न भाता है ||

Thursday, August 7, 2014

भाई-बहन के प्यार का त्यौहार है रक्षाबंधन


सावन (श्रावण) उत्सवों का माह है और इसी श्रावण मास की पूर्णिमा तिथि को रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया जाता है। ये भाई-बहनों के प्रेम को समर्पित त्यौहार है इस दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बाँधती हैं और भाई बहनों की रक्षा का संकल्प लेते हैं पर इस त्यौहार का सम्बन्ध सिर्फ भाई-बहन से ही नहीं है | जो भी हमारी रक्षा करता है या कर सकता है उसे हम राखी बाँधते हैं जैसे अपने पिता, पड़ोसी, हमारे सैनिक भाई और किसी राजनेता को भी राखी बांध सकते हैं | प्रकृति भी हमारी रक्षा करती है इस लिए पेड़ पौधों को भी राखी बाँधने का प्रचलन है ताकि उनकी रक्षा हो सके क्यों कि रक्षा सूत्र में अद्भुत शक्ति होती है ये बात खुद भगवान श्री कृष्ण ने महाभारत में कही है | राखी का त्यौहार भाई-बहनों को स्नेह की डोर में बाँधने का त्यौहार है जिससे उनके रिश्तों में मिठास बनी रहती है और वो हमेशा इस डोर में बंधे रहते हैं | भाई बचपन से ले कर बुढ़ापे तक बहनों की रक्षा करते हैं और बहनें उनकी रक्षा के लिए उनकी कलाई पर रक्षासूत्र बांधतीं हैं | कहीं-कहीं पुरोहित भी अपने यजमान को उनकी उन्नति के लिए रक्षासूत्र बांधते है और यजमान उन्हें सामर्थ्यानुसार दक्षिणा देते हैं | ये त्यौहार हमारे जीवन में मधुरता लाते हैं और ये हमारी सांस्कृतिक धरोहर भी हैं | इस त्यौहार को श्रावणी भी कहते हैं |
इस दिन सुबह बहनें स्नान करके थाली में रोली, अक्षत, कुंमकुंम और रंग-बिरंगी राखी रख कर दीपक जला कर पूजा करती हैं फिर पहले भगवान को राखी बाँध कर फिर अपने-अपने भाइयों के माथे पर रोली का तिलक करती हैं और दाहिनी कलाई पर राखी बाँधते हुए ये मन्त्र बोलती हैं |

येन बद्धो बलि: राजा दानवेन्द्रो महाबल:।
तेन त्वामभिबध्नामि रक्षे मा चल मा चल॥

रक्षाबंधन के बारे में अनेकों पौराणिक और ऐतिहासिक कथाएं हैं।

रक्षाबन्धन कब प्रारम्भ हुआ इसके बारे में कोई निश्चित जानकारी नहीं है पर पौराणिक कथाओं के अनुसार सबसे पहले इन्द्र की पत्नी ने देवराज इन्द्र को देवासुर संग्राम में असुरों पर विजय पाने के लिए रक्षा सूत्र बंधा था। इस सूत्र की शक्ति से देवराज की युद्ध में विजय हुयी थी ।
पुराणों के एक और कथा के अनुसार बलि ने अपनी भक्ति के बल से भगवान को रात-दिन अपने सामने रहने का वचन ले लिया। विष्णु जी के घर न लौटने से परेशान लक्ष्मी जी ने नारद जी से उन्हें वापस लाने का उपाय पूछा, नारद जी ने उन्हें उपाय बताया तब नारद जी के कहेनुसार लक्ष्मी जी ने राजा बलि के पास जाकर उन्हे राखी बांध कर अपना भाई बनाया और भगवान जी को अपने साथ ले आयीं। उस दिन भी श्रावण मास की पूर्णिमा थी। 
द्वापर में शिशुपाल के वध के समय जब सुदर्शन चक्र से श्री कृष्ण की उंगली कट गई तब द्रौपदी ने अपना आंचल फाड़कर उनकी उंगली पर बांध दिया था । उस दिन सावन की पूर्णिमा थी तब भगवान कृष्ण ने द्रौपदी को उनकी रक्षा का वचन दिया था और चीरहरण के समय उन्होंने अपना वचन निभाया था |
महाभारत में युधिष्ठिर ने श्री कृष्ण के कहने पर अपनी सेना की रक्षा हेतु पूरी सेना को रक्षासूत्र बांधा था
| कुन्ती द्वारा अभिमन्यू की रक्षा हेतु उसे राखी बाँधने का उल्लेख भी मिलता है |
इतिहास उठा कर देखें तो उसमे भी राजपूत रानी कर्मावती की कहानी है। जब रानी ने अपने राज्य की रक्षा के लिए हुमायूं को राखी भेजी तब हुमायूं ने राजपूत रानी को बहन मानकर उनके राज्य को शत्रु से बचाया था ।
सिकंदर की पत्नी ने भी सिकंदर के हिन्दू शत्रु की कलाई में राखी बाँध कर सिकंदर के जीवन दान का वचन लिया था |
राखी प्रेम और सौहार्द का त्यौहार है | इस रक्षाबंधन पर सभी भाई ये संकल्प करें कि वो अपनी बहनों के साथ-साथ दूसरों की बहनों के सम्मान की भी रक्षा करेंगे और उनका अपमान ना करेंगे ना होने देंगे बहनों के लिए इससे बड़ा कोई उपहार नही  होगा |


सभी को रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ |

मीना पाठक

(चित्र साभार गूगल )

Wednesday, August 6, 2014

मुक्तक


१-
जब भी ये सावन आता है
पिया की याद दे जाता है
जब से गये परदेश पिया
बैरी मधुमास न भाता है  ||
२-
कोमल दिल मुझसा पाओगे फिर कहाँ
जख्मों पर नमक छिड़क, जाओगे फिर कहाँ
जिंदा हूँ साँसों की गिनती खत्म होने तक
सुलग कर राख हो जाऊँगी जलाओगे फिर कहाँ ||

मीना पाठक 

Saturday, August 2, 2014

भगवान शिव को प्रिय है सावन



हिन्दू पंचांग के बारह मासों में श्रावण (सावन) मास भगवान शिव को सर्वाधिक प्रिय है | इस माह को वर्षा ऋतु भी कहते हैं | भगवान शिव को चंद्रमा बहुत प्रिय हैं इसी लिए उन्होंने चंद्रमा को अपने मस्तक पर धारण किया है जिसके कारण वह चन्द्रशेखर कहलाये | चन्द्रमा जल तत्व का ग्रह है इसी लिए इस माह में जल की अधिकता होती है |
सावन मास भगवान शिव को विशेष प्रिय है | इस लिए इस मास में शिव की पूजा अर्चना का विशेष महत्व और विधान है जिसे शिव भक्त बड़ी श्रद्धा से करते हैं तब आशुतोष शिवशंकर प्रशन्न हो कर मनोवांछित फल देते है |
सावन भगवान शिव को इतना प्रिय क्यों है ? इसके बारे में एक पौराणिक कथा में कहा गया है कि सती के देहत्याग करने के पश्चात जब आदिशक्ति ने अपने दूसरे जन्म में पार्वती के रूप में पर्वतराज हिमालय के घर में जन्म लिया तब उन्होंने अपने युवावस्था में इसी माह में निराहार रहकर कठोर तपस्या कर के भगवान शिव को प्रशन्न किया और उन्हें पति रूप में पाने का वरदान प्राप्त किया | सावन माह शिव और पार्वती के मिलन का माह है कहते हैं तभी से सावन मास शिव को अत्यधिक प्रिय हो गया | इसके अलावा भी और कई कारण है |
कहते हैं कि भगवान शिव इस मास पृथ्वी पर अपनी ससुराल आये थे तब उनका स्वागत आर्घ्य और जलाभिषेक से किया गया था इसी लिए ये महीना शिव को प्रिय है और पृथ्वीवासियों को उनकी कृपा पाने का मास भी है |
एक और कथा के अनुसार जब समुद्रमंथन से विष निकला था तब सम्पूर्ण श्रृष्टि की रक्षा हेतु भगवान शिव ने वो विष अपने कंठ में धारण कर लिया था उस विष के प्रभाव से उन्हें मूर्च्छा आ गई तब ब्रह्मा जी के कहने पर सभी देवताओं ने उन पर जलाभिषेक किया | कहते हैं तभी से भगवान शिव का जलाभिषेक होने लगा | यह अद्भुत घटना भी सावन मास में घटित हुआ इस लिए भी सावन मास शिव को प्रिय है | सर्प आशुतोष शिव के प्रिय आभूषण हैं अत: नागपंचमी का पर्व भी इसी महीने में मनाया जाता है |
सावन मास के प्रधान देवता भगवान शिव हैं | यही कारण है कि इस महीने शिव की पूजा का कई गुना फल प्राप्त होता है | इन्ही सब कारणों से माना जाता है कि भगवान शिव को सावन मास सबसे प्रिय है |
इस महीने कथा,प्रवचन,सत्संग सुनने का विशेष महत्व है |
 सावन में सोमवार व्रत अत्यधिक फल देने वाला होता है | शिवशंकर बहुत भोले हैं और जल उन्हें बहुत प्रिय है वो मात्र जलाभिषेक से ही प्रशन्न हो जाते हैं | प्रेम पूर्वक शिवपार्वती की पूजा आरती से आत्मिक सुख की प्राप्ति होती है |

`
ऊं नमः शिवाय

मीना पाठक