Tuesday, September 19, 2017

एक दोहा

मन वीणा के स्वर कभी, पहुचे नहि उस पार। तारों में उलझे रहे, सरगम शब्द पुकार।। मीना पाठक (चित्र साभार गूगल)

No comments:

Post a Comment